बुलेट-ट्रेन..

एक बुलेट-ट्रेन चाहिए…

Dil Se...

एक बुलेट-ट्रेन चाहिए,
जो देहात को शहर की शक्ल दे,
गरीब को अमीरों सा बल दे,
किसान को हर साल लहलहाती फसल दे।

एक बुलेट-ट्रेन चाहिए,
जो देश से भर्ष्टाचार को ले जाये दूर,
रिश्वत देने को न हो आम आदमी मजबूर,
दो वक़्त की रोटी खा पाएं मजदूर।

एक बुलेट-ट्रेन चाहिए,
जो जाती-धर्म की नफरत को दूर छोड़ आए,
हर माँ चैन से अपने घर में सो पाए,
बहनें अब और अपनी इज्जत न लुटवाएं।

एक बुलेट- ट्रेन चाहिए,
जो गति के साथ नयी सोच का करे प्रवाह,
देश को दिखे एक नयी राह,
बस इतनी से है मेरी चाह।

View original post

About DilSe
Still discovering & learning....

2 Responses to बुलेट-ट्रेन..

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

Flame

aaj ki shairi

Candid Conversations by Rinku Bhardwaj

My honest take on personal excellence, a journey of becoming better version of myself through my experiences, interactions or readings!

Umesh Kaul

Traveler!!!! on the road

What do you do Deepti

Exploring madness***

आज सिरहाने

लिखो, शान से!

abvishu

जो जीता हूँ उसे लिख देता हूँ

Bhav-Abhivykti

This blog is nothing but my experiences of life and my thoughts towards the world.

Ruchi Kokcha Writes...

The Shards of my Self

%d bloggers like this: