From my lost diaries…

Over next few days I am going to share some of the poems which were written during my school/college going days. Found an old diary, sad that have lost other writings….whatever is left I am going to post here. Thanks!

वो ख्वाब..

आँखों में अब भी वो ख्वाब पलते हैं,
जिन्हे तेरे दरवाजे पर जला आये थे।

शम्मा..

शम्मा के चर्चे कुछ यूँ हैं पूरे शहर में की,
परवाने रोज महफ़िल सजाये रहते हैं।

रूह..

नींद नदारद है आँखों से रातों में,
सुना कुछ ऐसा की रूह को सुकून मिले।

किस्सा..

नींद हमारी आँखों से नदारद है आज की रात,
चलो आओ एक किस्सा नया मिल लिखते हैं।

दोस्त..

दोस्तों ने कुछ ऐसे दाग छोडे रूह पर,
दुश्मनों को हम आज भी तरसते हैं।

Spree of posts…

A spree of posts (hindi couplets) on the blog, based on writing prompts from Twitter..

Just like that

reach out and touch someone.....

Umesh Kaul

Traveler!!!! on the road

Yes I am Deepti

Exploring madness***

Aaj Sirhaane

aaiye, kuchh likhte hain..

abvishu

जो जीता हूँ उसे लिख देता हूँ

angelalimaq

food, travel and musings of a TV presenter.

Bhav-Abhivykti

This blog is nothing but my experiences of life and my thoughts towards the world.

%d bloggers like this: