अधिकार नहीं….

हाँ मेरा तुम पर अधिकार नहीं
जीवन में अब वो रस-धार नहीं,
जिन आँखों ने स्वपन सजोये थे
उन नैनों में अब अश्रुधार सही।

इस हृदय ने चाहा था तुम्हे कभी
वो पल हर-पल जैसे हो यहाँ अभी,
मन ने कितने ही थे जो महल बनाये
पग-पग में सब बिखरे धूमिल यहीं।

इन हाथों में थामें हाथ तुम्हारा प्रिये
कितने ही मौसम दोनों हम संग जिए,
नक़्शे खींचे थे कुछ जीवन की राहों के
जुदा मंज़िलों पर हम फिर चल दिए।

तुम्हे समझा पाने के सब प्रयत्नों से
दूर निकल चली तुम मेरे जतनों से,
विजयी ध्वज कुछ फहराने थे पर
जीवन में अब हार मिली तो हार सही।

#दिलसे

हारे से..

थके मुरझाये चेहरे हर ओर,
आज सब हारे से लग रहे हैं।
देख जिन्हे हिम्मत मिलती थी,
वही आज बेचारे से लग रहे हैं।

Lost. Again!

Can see people moving, and hear all the sound.
As I try to weave my thoughts, which seem to wander around.
Days spent like this, nights are quite same.
Every attempt to do something better, has gone in vain.
Robotic nods, and the fake smiles.
In middle of somewhere, yet to cover miles.
Accomplish goals, at any cost?
Something tells me, for sure I am lost!

Lost

Driving down the same roads I feel lost,

destination seems a distant dream.

Music is noise which still plays loud,

that feel of being lonely even in the crowd.

How long can one keep dragging life,

and push dreams far away.

Is it really even worth trying,

for something on the verge of dying!

Just like that

reach out and touch someone.....

Umesh Kaul

Traveler!!!! on the road

Yes I am Deepti

Exploring madness***

Aaj Sirhaane

aaiye, kuchh likhte hain..

abvishu

जो जीता हूँ उसे लिख देता हूँ

angelalimaq

food, travel and musings of a TV presenter.

Bhav-Abhivykti

This blog is nothing but my experiences of life and my thoughts towards the world.

%d bloggers like this: